Hardware कितने प्रकार के होते हैं ?

 Hardware क्या है ? Computer Hardware क्या होता है ?Hardware कितने प्रकार के होते हैं ? 

कंप्यूटर मुख्यता दो प्रमुख भागों से अपना काम करता है ,एक होता है सॉफ्टवेयर (Software ) और दूसरा है हार्डवेयर (Hardware ), जिस तरह बिना सॉफ्टवेयर के कंप्यूटर  पर कार्य करना संभव नहीं है ठीक उसी तरह से बिना हार्डवेयर के कंप्यूटर पर कार्य नहीं किया जा सकता है। यह दोनों भाग कंप्यूटर पर किसी भी कार्य को  करने के लिए बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।दोनों का ही कार्य प्रणली अलग अलग है ,हार्डवेयर का कार्य अलग तरह की होती है और सॉफ्टवेयर का कार्य अलग होती है।  बिना इनके कंप्यूटर कुछ काम का नहीं होता है।

 

आज के इस आर्टिकल के माध्यम से में हम कंप्यूटर के हार्डवेयर भाग के बारे में समझने का कोशिश करते हैं कि Hardware क्या है ? Hardware कितने प्रकार के होते हैं?

Hardware क्या है ?Hardware in Hindi . 

कंप्यूटर का वह भाग ,जिसे स्पर्श किया जा सकता है और आँखों से देखा जा सकता है ,हार्डवेयर (Hardware ) कहलाता है। जैसे Monitor, Keyboard, Mouse, Ram, Motherboard, Printer इत्यादि सभी Computer Hardware हैं। कंप्यूटर पर  हार्डवेयर मुख्य रूप से सॉफ्टवेयर के निर्देशों के आधार पर कार्य करता है। हार्डवेयर को संक्षिप्त में H/W भी लिखा जाता है। 

हार्डवेयर को दो भागों में विभाजित किया जा सकता है। 

Internal Hardware तथा External Hardware 

Internal Hardware 

वैसे हार्डवेयर Component होते हैं जो कंप्यूटर के अंदर लगाए जाते हैं। आम तौर पर यह दिखाई नहीं देते इन्हे देखने के लिए कंप्यूटर को खोल कर देखा जा सकता है। जैसे

 Motherboard, RAM ,C P U ,Drive , Graphic Card  इत्यादि सभी internal Hardware हैं। 

External Hardware 

वैसे हार्डवेयर component होते हैं जो कंप्यूटर के साथ बाहर से जुड़े हुए होते हैं और इन्हे आसानी से देखा और छुआ जा सकता है। जैसे इनपुट डिवाइस और आउटपुट डिवाइस 

Keyboard ,Mouse ,Printer ,Monitor ,Speaker इत्यादि सभी external Hardware हैं। 

 

हार्डवेयर के प्रकार (Types of Hardware in Hindi.)

कार्य प्रणाली के आधार हार्डवेयर को प्रमुख चार भागों में विभाजित किया गया है। 

1. CPU(सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट )                       

2. Input Device (इनपुट डिवाइस )

3. Output Device (आउटपुट डिवाइस )         

4. Memory Unit ( मैमोरी यूनिट )

 

सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट 

कंप्यूटर को दिए गए निर्देशों को सुचारु रूप से चलाने का कार्य प्रोसेसिंग यूनिट का होता है। जिसका मुख्य भाग सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (Central Processing Unit or CPU ) होता है। CPU को कंप्यूटर का दिमाग(Brain of Computer) भी कहा जाता है। CPU का काम यूजर से इनपुट लेना तथा उसे प्रोसेस करके आउटपुट प्रदान करना होता है। 

CPU के तीन भाग हैं। 

(i) अर्थमैटिक लॉजिक यूनिट (Arithmetic Logic Unit – ALU)  

इसका कार्य सभी प्रकार के आंकिय (Arithmetic) व तार्किक (Logical) निर्देशों को प्रोसेसिंग करना होता है तथा यह किसी आदेश का पालन सुनिश्चित करने के लिए कंप्यूटर के दूसरे सभी भागों को उचित निर्देश जारी करता है। 

(ii) रजिस्टर (Register )

यह एक ऐसा उपकरण  साधन है जिसमे डेटा स्टोर किया जाता है। रेगिस्टर्स बहुत तेज गति वाली अस्थायी स्टोरेज युक्ति है। यह CPU को किसी डेटा का उपयोग करने के लिए सबसे तेज मार्ग देते हैं।

(iii) कण्ट्रोल यूनिट(Control Unit) 

 इसका कार्य निर्देशों क सही उपयोग करना एवं उन्हें नियंत्रित करना होता है। 

इनपुट डिवाइस   इनपुट डिवाइस  क्या है ?

इस यूनिट या डिवाइस का प्रयोग आंकड़ों ,तथ्यों एवं निर्देशों आदि को कंप्यूटर के अंदर Enter करने के लिए किया जाता है। इनपुट डिवाइस द्वारा ही इनपुट इकाइयाँ कंप्यूटर में प्रवेश करती है। यह डेटा और निर्देशों को सी पी यू के समझने योग्य विद्युत् संकेतों में बदलकर सी पी यू Enter करती है। 

इनपुट डिवाइस जैसे Keyboard ,Mouse आदि 

 

आउटपुट डिवाइस    आउटपुट डिवाइस क्या है ?

इनपुट डिवाइस से डेटा या निर्देश ग्रहण करने और प्रोसेसिंग होने के बाद जिस भाग के पास जाता है उसे आउटपुट डिवाइस कहा जाता है। 

आउटपुट डिवाइस का प्रयोग कंप्यूटर से प्राप्त परिणाम को देखने के लिए किया जाता है। कंप्यूटर द्वारा उत्पन्न आउटपुट दो तरह के होते हैं  सॉफ्ट कॉपी और हार्ड कॉपी। 

आउटपुट डिवाइस के कुछ उदाहरण  जैसे  मॉनिटर ,प्रिंटर ,स्पीकर आदि। 

 मैमोरी यूनिट 

कंप्यूटर की  मैमोरी किसी कंप्यूटर के उन साधनों या रिकॉर्ड करने वाले माध्यमों को कहा जाता है ,जिनमे प्रोसेसिंग में उपयोग किये जाने वाले अंकीय डेटा को किसी भी समय तक रखा जाता है। 

यह दो प्रकार की होती है। 

प्राइमरी  मैमोरी और सेकेंडरी मैमोरी

प्राइमरी मैमोरी ( Primary Memory)

इस मैमोरी को मुख्य मैमोरी या आन्तरिक मैमोरी भी कहा  जाता है ,जो कंप्यूटर के अंदर रहती है। इसमें डेटा  अस्थायी रूप से रखा जाता है। इसके डेटा और निर्देश का सीपीयू के द्वारा तीव्र तथा प्रत्यक्ष उपयोग होता है। 

रैम (RAM) और कैश मैमोरी(Cache Memory) इसके उदाहरण हैं।  

सेकेंडरी मैमोरी (Secondary Memory )

इस प्रकार के मैमोरी कंप्यूटर के अन्दर और बहार भी होती है। इस मैमोरी पर डेटा को स्थायी रूप से रखा जाता है। इसकी स्टोरेज क्षमता बहुत अधिक होती है। हार्डडिस्क (Hard Disk)इसका मुख्य उदाहरण है। 

 

 

Software क्या है ? Software कितने प्रकार के होते हैं ?

Leave a Comment