Demat Account क्या है-डीमैट अकाउंट

Demat Account क्या है ? What is Demat Account in Hindi.
शेयर मार्केट के बारे में टीवी ,न्यूज़ पेपर या इंटरनेट पर हर दिन देखने को मिलती रहती है तो कभी ना कभी ख्याल आता होगा क्यों ना शेयर बाजार पर निवेश किया जाये  तो दोस्तों शेयर बाजार में निवेश करने के लिए  Demat Account  की जरुरत होती है । डीमैट अकॉउंट के द्वारा ही आप शेयर मार्केट पर निवेश यानी शेयर्स की खरीद बिक्री कर सकते हैं। अगर आपके पास डीमैट अकाउंट नहीं है तो आप शेयर बाजार पर निवेश नहीं कर सकते। डीमैट अकाउंट खोलने के लिए पैन कार्ड का होना बहुत जरुरी है बिना पैन कार्ड के आप डीमैट अकाउंट नहीं खोल सकते हैं।
तो  आज के इस आर्टिकल के माध्यम से  हम डीमैट अकाउंट के बारे में जानेंगे। Demat Account क्या है ?शेयर बाजार में निवेश करने के लिए डीमैट अकाउंट क्यों जरुरी है ?

Demat Account क्या है ? 

 
बैंक अकाउंट के बारे में तो आप सभी जानते होंगे जहाँ पैसों को सुरक्षित रखा जाता है ।और बैंक अकाउंट में  लोग अपने पैसों को  जमा और उसकी  निकासी करते हैं। ठीक उसी तरह शेयर बाजार में भी  Demat Account के द्वारा शेयर्स की खरीद बिक्री की जाती है तथा ख़रीदे गए शेयर्स को सुरक्षित रखा जाता है। बिना डीमैट अकाउंट के शेयर बाजार पर निवेश करना संभव नहीं है। क्यूंकि शेयर्स खरीदने के लिए अकाउंट का होना बहुत जरुरी है। डीमैट अकाउंट में शेयर्स के साथ साथ म्यूच्यूअल फण्ड ,बांड ,सिक्योरिटीज आदि रखा जाता है।

शेयर बाजार में निवेश करने के लिए डीमैट अकाउंट क्यों जरुरी है ?

 
SEBI (Securities And Exchange Board Of India ) जो शेयर बाजार को संतुलित करता है. इसके निर्देश के अनुसार बिना डीमैट अकाउंट के किसी दूसरे माध्यम से  कोई भी निवेशक शेयर बाजार पर शेयर्स की खरीद बिक्री नहीं कर सकता है। इसलिए अगर आप शेयर बाजार पर निवेश करना चाहते हैं तो डीमैट अकाउंट का होना बहुत ही  जरुरी होता है।
 भारत में इसके लिए दो डिपाजिटरी मौजूद है
NSDL (National Securities Depository Ltd)  तथा  CDSL (Central Depository Service Ltd ) इनके द्वारा अलग अलग प्रकार के शेयर आयोजित किये जाते हैं।

डीमैट अकाउंट के फायदे। 

 
डीमैट अकाउंट के बहुत से फायदे हैं जैसे की अगर आप शेयर खरीदते हैं तो उनमे होने वाले धोखा या शेयर्स की चोरी ना के बराबर होती है। इसमें रखे शेयर्स पूरी तरह से सुरक्षित होती है।
शेयर्स को भौतिकी रूप में रखने का कोई झंझट नहीं है क्यूंकि पहले शेयर खरीद बिक्री का काम पेपर द्वारा किया जाता था आजकल यह डिजिटल रूप से किया जाता है।जब भी आप शेयर्स खरीदते हैं तो आपको अपने डीमैट अकाउंट पर शेयर दिखने लग जाते हैं।
 शेयर्स का ट्रांसफर करने पर इसकी स्टाम्प डूटी नहीं  लगती है तथा आजकल सभी कार्य पेपरलेस हो गयी है।और बैंक अकाउंट की तरह डीमैट अकाउंट को ऑनलाइन ट्रैक कर सकते हैं।

Demate Account बनाने से पहले इन बातों का  ध्यान रखना चाहिए। 

 
अगर आपको  भी शेयर बाजार पर निवेश करना है और  डीमैट अकाउंट बनाना चाहते हैं तो इन बातों पर गौर करना चाहिए जैसे कि
डीमैट अकाउंट आप जिस भी ब्रोकर के पास खोलते हैं तो आपको यह जानना जरुरी है की वह सेबी से रजिस्टर है या नहीं।
आप उन्ही ब्रोकर को चुने जो भरोसेमंद हो। शेयर बाजार के लिए बहुत सारे ब्रोकर हैं जो निवेश के लिए कई अलग अलग सुविधाएं उपलब्ध करती है और इन सुविधाओं के लिए ब्रोकर कुछ चार्जेस लेती है। जैसे अकाउंट को मेन्टेन करने तथा इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए कुछ चार्जेज देनी होती है। कुछ ब्रोकर के चार्जेज कम होते हैं तो कुछ थोड़ा अधिक पैसे लेते हैं

डीमैट अकाउंट खोलने के लिए इन दस्तावेजों की जरुरत होती है। 

पैन कार्ड 
आधार कार्ड 
बैंक अकाउंट 
कलर फोटो 
बैंक स्टेटमेंट 
इन दस्तावेजों से आप अपना डीमैट खाता खोल सकते हैं।
इस आर्टिकल में हमने Demat Account क्या है के बारे में जाना। अगर आपको शेयर मार्केट से जुड़े और भी बातें जननी हो तो आप नीचे कमेंट कर अपनी बात पूछ सकते हैं।

Leave a Comment