बचत खाता (Saving Account) क्या होता है ?

दोस्तों पैसा एक ऐसा माध्यम जिससे इंसान अपनी हर जरुरत को पूरा कर सकता है। और पैसे कमाने के लिए हर इंसान मेहनत करता है।  और अपने कमाए हुए पैसे को सुरक्षित रखने के लिए बैंक (Bank ) में जमा करता है। बैंक एक ऐसा जगह है जहाँ लोग अपने पैसों को सुरक्षित रखने के लिए जमा करते हैं तथा बैंक पैसों का सुरक्षित होने का भरोसा दिलाता है।

बैंकों में पैसे जमा करने के लिए सबसे पहले बैंक में (Account Open ) खाता खुलवाला पड़ता है। जिसके लिए फॉर्म भरा जाता है जहाँ यह पूछा जाता है की आप (Saving Account ) बचत खाता या (Current Account ) चालू खाता खुलवाना चाहते हैं। देखा जाये तो ज्यादातर वैसे लोग जो केवल अपने पैसों को बचत  कर रखना चाहते हैं वे  सेविंग अकाउंट यानी बचत खाता ही ओपन करना पसंद करते हैं।

तो आज के इस लेख में हम जानेंगे की ये  Saving Account क्या होता है ? Saving Account kya होता  है in Hindi. सेविंग अकाउंट का क्या मतलब होता है ? सेविंग अकाउंट में कितना पैसा रख सकते हैं ? सेविंग अकाउंट के फायदे। सेविंग अकाउंट में मिनिमम बैलेंस तथा सेविंग अकाउंट खोलने के लिए किन किन दस्तावेजों की जरुरत पड़ती है ?

बचत खाता (Saving Account) क्या होता है ? बचत खाता के फायदे

 

 

 

Saving Account क्या होता है ? सेविंग अकाउंट का मतलब 

 

सेविंग यानी बचत करना नाम से ही पता चलता है की किसी भी वस्तु का अपने उपयोग कर  उस वस्तु का कुछ हिस्सा अलग से जमा करना या रखना जिसे आने वाला कल में उपयोग किया जा सके सेविंग करना या बचत करना कहलाता है।

ठीक इसी तरह बैंकों में भी लोग अपने पैसों को अपने बैंक खाते में जमा कर पैसों की बचत करते हैं। बात आती है ( Saving Account ) सेविंग अकाउंट की जिसे बचत खाता के नाम से भी जाना जाता है यह बैंक अकाउंट का एक प्रकार होता है जहाँ लोग अपने पैसों को जमा रखते हैं। यह एक सामान्य अकाउंट होता है और आने वाले दिनों में  जब भी पैसों की जरुरत पड़ने पर अपने बैंक खाता से निकाल कर इस्तेमाल करते हैं।

सेविंग अकाउंट यानी बचत खाता वैसे लोग ओपन करवाते हैं जो या तो जॉब में हैं , किसान या स्टूडेंट आदि।  मतलब हर नार्मल इंसान बचत खाता की खुलवाते हैं सिवाए बड़े बिज़नेस करने वालों के।

सेविंग अकाउंट में जहाँ आप आपने  पैसों को तो सुरक्षित रखते ही हैं साथ ही आपके रखे उस पैसों के लिए बैंक आपको ब्याज भी देती है। सेविंग अकाउंट पर मिलने वाली ब्याज दर सभी बैंकों में अलग अलग होती है  जो 2.70% से  7%  तक हो सकती है।

 

 

सेविंग अकाउंट के फायदे (Benefits of Saving Account in Hindi )

 

बात की जाये सेविंग अकाउंट के फायदों के बारे में तो सेविंग अकाउंट यानी बचत खाता पर हमें ऐसे बहुत से सुविधाएँ मिल जाती है जो इस प्रकार है :-

  • बचत खाता होने पर सबसे अच्छा फ़ायदा यह है की आप अपने पैसों का महीने में जरुरत के हिसाब से खर्च कर बाकी बचे हुए पैसों को खाता में डाल कर बचत कर सकते हैं।
  • सेविंग अकाउंट पर जमा किये गए पैसों पर बैंक द्वारा अच्छी ब्याज दर दी जाती है जो 2.70% से  7%  तक हो सकती है।सभी बैंकों की ब्याज दर अलग अलग होती है।
  • बैंक अपने बचत खाता धारक को एटीएम डेबिट कार्ड , क्रेडिट कार्ड , चेक बुक , नेटबैंकिंग जैसे सुविधाएँ भी प्रदान करता है।
  • बैंकों में जो लॉकर की सुविधा होती है इसमें भी सेविंग अकाउंट होने पर अच्छी छूट दी जाती है।
  • सेविंग अकाउंट पर बैंक अपने ग्राहक को कम दर पर लाइफ इन्शुरन्स भी प्रदान करता है।

सेविंग अकाउंट में कितना पैसा रख सकते हैं ?

 

दोस्तों बैंक में सेविंग अकाउंट ओपन करने के बाद कभी न कभी तो मन में यह सवाल जरूर आया होगा की आखिर सेविंग अकाउंट में कितना पैसा रख सकते हैं ?

बात रही सेविंग अकाउंट में कितने पैसा रखने की तो दोस्तों आप जितने चाहें उतने पैसे रख सकते हैं। लेकिन इस बात का हमेशा ध्यान रहे की साल भर में आपको 10 लाख या उससे ज्यादा की धन राशि के निकासी या जमा करने पर इनकम टैक्स डिपाटमेंट द्वारा आपके पैसे आने के स्रोत के बारे में पूछा जाता है।

इसका गलत जानकारी देने पर आपको सजा भी दी जा सकती है।

 सेविंग अकाउंट में मिनिमम बैलेंस

सेविंग अकाउंट में मिनिमम बैलेंस की बात की जाये तो बैंक सेविंग अकाउंट पर मिनिमम बैलेंस मेन्टेन करने को कहता है जो की सभी बैंकों के अपने अलग अलग मिनिमम निर्धारित राशि तय किये गए हैं। मिनिमम बैलेंस मेन्टेन नहीं करने पर बैंक द्वारा दंड के रूप में कुछ पैसे काट लिए जाते हैं।

उदाहरण के लिए  यहाँ पंजाब नेशनल बैंक  की बात करते हैं। PNB अपने ग्राहकों से जो गाँव क्षेत्र से होते हैं उन्हें मिनिमम बैलेंस के रुप में 500 रुपया रखने को कहता है  और जो शहरी क्षेत्र के ग्राहक होते हैं उन्हें 1000 रुपया रखने को कहा जाता है।

सेविंग अकाउंट पर मिनिमम राशि प्रत्यके तीन महीनों के हिसाब से देखा जाता है।

सेविंग अकाउंट खोलने के लिए किन किन दस्तावेजों की जरुरत पड़ती है ?

 

दोस्तों जब भी आप किसी भी बैंक पर सेविंग अकाउंट ओपन कराने जातें हैं तो सबसे पहले बैंक में एक फॉर्म भरना पड़ता है जिसके लिए  कुछ जरुरी डाक्यूमेंट्स माँगा जाता है जो इस प्रकार है।

Photograph – हाल ही में खिचांए हुए फोटो चाहिए होती है उस फॉर्म में चिपकाने के लिए

पहचान पत्र – पहचान पत्र तथा एड्रेस प्रूफ के रूप में आप Voter Id , पासपोर्ट , ड्राइविंग लइसेंस, राशन कार्ड, आदि का ज़ेरॉक्स जमा सकते हैं।

आधार कार्ड – आधार कार्ड बहुत ही जरुरी दस्तावेजों में से एक है आजकल हर जगह यह पहचान पत्र के रूप में आधार कार्ड माँग की जाती है।

पैन कार्ड –  बैंक अकाउंट के लिए पैन कार्ड बहुत जरुरी है और अकाउंट ओपनिंग के समय पैन कार्ड डिटेल माँगा जाता है।अगर आपके पास पैन कार्ड नहीं है तो भी आपका बैंक अकाउंट ओपन किया जाता है लेकिन बाद  में आपको पैन कार्ड डिटेल जमा करने को  कहा जाता है।

फ़ोन नंबर – हर क्षेत्र में फ़ोन नंबर आजकल बहुत जरुरी है।  बैंक में आपके जितने भी जमा या निकासी का डिटेल  SMS द्वारा प्राप्त हो जाती है और तो और बैंक में दिए  हुए फ़ोन नंबर से आप Phone पे  , गूगल पे जैसे ऐप  के माध्यम से ऑनलाइन लेन देन कर सकते हैं।

 

बचत खाता से जुड़े सवाल बचत खाता क्या होता है या सेविंग अकाउंट क्या है ? सेविंग अकाउंट के फायदे। सेविंग अकाउंट में मिनिमम बैलेंस तथा सेविंग अकाउंट खोलने के लिए किन किन दस्तावेजों की जरुरत पड़ती है ? इन सभी बारे में इस लेख में जाना हमे उम्मीद है की यह लेख पसंद आयी होगी। इसी तरह के  बैंक से  सम्बंधित और भी जानकारी  लिए नीचे जरूर कमेंट करें। धन्यवाद !

 

 

 

Leave a Comment