पैन कार्ड : घर बैठे पैन कार्ड कैसे बनाए ?

पैन कार्ड की बात करें तो बहुत से कार्यों पर इसकी जरुरत पड़ती है यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण और आवश्यक दस्तावेज़ में से एक है। अक्सर बैंकों पर खाता खोलते समय पैन कार्ड  माँगा जाता है ,इनकम टैक्स रिटर्न के लिए या फिर पहचान पत्र के तौर पर भी पैन कार्ड का उपयोग किया जाता है। यह एक प्लास्टिक का कार्ड होता है जिस पर कार्डधारी का नाम ,उसका जन्मतीथि और पैन कार्ड नंबर अंकित होता है।

पैन कार्ड क्या है ,पैन कार्ड कैसे बनाए ,पैन कार्ड ऑनलाइन अप्लाई ,पैन कार्ड डाउनलोड कैसे करे, इस तरह के समान्य जानकारी हम सभी हो होना बहुत आवश्यक है  इसलिए इन्ही बिंदुओं को ध्यान में रखते हुए आईये जानते हैं पैन कार्ड से जुड़े आवश्यक जानकारी।

पैन कार्ड क्या है ?

दिखने में यह कार्ड की तरह होता है जोकि पल्स्टिक का बना होता है जिसमे कार्डधारी के बारे में उनका फ़ोटो ,नाम, पिता का नाम ,डाटऑफ बिर्थ और पैन नंबर अंकित हुआ होता है। PAN Card का पूरा नाम PERMANENT ACCOUNT NUMBER CARD है जिसे हिंदी में स्थायी लेखा संख्या कार्ड कहा जाता है।

पैन कार्ड पर 10 अंकों का नंबर अंकित रहता है जो की Alphnumric अंक होते हैं , यानी पैन कार्ड पर अंकित नंबर में कुछ alpabate से लिए जाते हैं और कुछ Number के अंकों को मिला कर 10 अंकों का पैन नंबर बनाया जाता है।

किसी भी तरह का फाइनेंसियल ट्रांसेक्शन के लिए पैन कार्ड को जरुरी दस्तवेज़ के रूप में माना जाता है।  PAN Card में जो नंबर मौजूद रहते हैं वो सभी प्रकार के financial transaction के लिए जरुरी होता है।  जैसे bank में खाता खोलने के लिए, taxable salary पाने के लिए, धन संपत्ति और गहने खरीदने अथवा बेचने के लिए इत्यादि इन सभी चीजो में PAN Card की जरुरत पड़ती है।

पैन कार्ड का फुलफॉर्म -PAN Card का  Full Form क्या है ?

    Permanent Account Number होता है।  

    पैन कार्ड हिंदी नाम स्थायी लेखा संख्या है 

 

पैन कार्ड क्यों जरुरी है ?

  • पैन कार्ड में कार्डधारी का जानकारी दिया हुआ होता है जैसे की नाम ,फोटो ,जन्मतिथि आदि इसलिए इसका इस्तेमाल एक पहचान पत्र की तरह भी किया जाता है।
  • इसका मुख्य उपयोग टैक्स भरने के दौरान किया जाता है। पैन कार्ड के बिना आपको टैक्स का भुगतान ज्यादा करना पड़ सकता है। पैन कार्ड का इस्तेमाल न केवल टैक्स भरने के लिए किया जाता है बल्कि अधिक रकम की लेनदेन के समय इसका उपयोग किया जाता है।
  • आजकल बैंक खाता खोलने के लिए पैन कार्ड की जरूरत पड़ता है।
  • पैन कार्ड में अंकित नंबर की मदद से इनकम टैक्स डिपार्टमेंट किसी भी व्यक्ति द्वारा किये जाने वाले लेनदेन पर नजर रखता है ताकि टैक्स की चोरी को रोका जा सके।

पैन कार्ड कैसे बनाये ?

आजकल पैन कार्ड बनाना बहुत की आसान हो गया है आप अपने नजदीकी प्रज्ञा केंद्र जा कर पैन कार्ड बनवाने के लिए आवदेन कर सकते हैं । पैन कार्ड बनवाने के लिए कुछ दस्तावेजों की जरुरत पड़ती है। जिसमे आप आधार कार्ड ,पासपोर्ट ,ड्राइविंग लाइसेंस जैसे दस्तावेज शामिल कर सकते हैं।

पैन कार्ड बनाते समय लगने वाले डॉक्यूमेंट में पैनकार्ड बनाने वाले का नाम ,रहने का पता ,जन्मतिथि देखा जाता है इसके लिए सबसे उपयोगी दस्तावेज आधार कार्ड है जो पहचान पत्र का भी काम करता है और इसमें जन्म तिथि अंकित रहता है साथ ही फोटो और रहने का पता दिया हुआ होता है।

बात की जाये पैन कार्ड बनाने की तो आप किन्ही जान सेवा केंद्र जाकर बनवा सकते हैं या अगर आपको इंटरनेट का ज्ञान है तो खुद से भी घर बैठे पैन कार्ड अप्लाई कर सकते हैं।

अगर आप खुद से पैन कार्ड बनाने की सोच रहे हैं तो आप गूगल पर जाकर www.utiitsl.com सर्च कर ऑनलाइन अप्लाई कर सकते हैं।

पैन कार्ड ऑनलाइन कैसे बनाया जाता है ?

दोस्तों पैन कार्ड ऑनलाइन बनाने के दो तरीके हैं इसमें दोनों ही तरीके बहुत आसान है इसमें सोचने वाली बात बिलकुल भी नहीं है की पैन कार्ड अप्लाई कैसे करें ? तो आगे जानते हैं ऑनलाइन पैन कार्ड बनाने के आसान तरीके।

पैन कार्ड ऑनलाइन बनाने के लिए आप www.utiitsl.com पर जाते हैं तो यहाँ पर दो तरीकों के ऑप्शन दिखाई देते हैं।

  • Physical Mode :-  अगर आप इस ऑप्शन से पैन कार्ड बनाते हैं तो सबसे पहले आपको पैन कार्ड के लिए ऑनलाइन फॉर्म भरना होता है। फॉर्म को ऑनलाइन भरके के बाद में उस फॉर्म का प्रिंट आउट कर उस पर दो पासपोर्ट साइज फोटो लगाने के बाद और हस्ताक्षर करने के बाद जरुरी दस्तावेज के साथ उसे पैन कार्ड ऑफिस पर स्पीड पोस्ट द्वारा भेजना पड़ता है।

 

  • Digital Mode :- डिजिटल तरीके से पैन कार्ड बनाने के लिए आधार कार्ड पर मोबाइल नंबर का लिंक होना बहुत जरुरी है। क्यूंकि डिजिटल तरीका से पैन कार्ड  बनाने के लिए आधार कार्ड का बहुत बड़ा योगदान होता है जिसके जरिये OTP वेरिफिकेशन द्वारा आवेदक का पहचान पत्र से सत्यापित किया जाता है।

डिजिटल तरीका का एक सबसे बड़ा फ़ायदा यह है कि इसमें किसी भी तरह के डॉक्यूमेंट कहीं भेजने की जरुरत नहीं पड़ती है। OTP द्वारा वेरीफाई होने के बाद कुछ ही घंटों में पैन कार्ड का डिजिटल कॉपी ईमेल पर भेज दिया जाता है। लेकिन इसके लिए आधार नंबर पर मोबाइल नंबर जुड़ा हुआ होना चाहिए।

 

 

 

Leave a Comment