इंटरनेट क्या है ? What is Internet in Hindi

आधुनिक युग में इंटरनेट का बहुत प्रचलन है आप सभी अपने समर्टफोने या कंप्यूटर में इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं जैसे आप इस आर्टिकल को इंटरनेट के माध्यम से ही पढ़ पा रहे हैं बिना इंटरनेट के यह संभव ही नहीं था। तो आज के इस आर्टिकल के माध्यम से इंटरनेट के बारे में जानेंगे। इंटरनेट क्या है ? इंटरनेट का इतिहास। इंटरनेट के लाभ और हानियां।

 

इंटरनेट क्या है – What is Internet in Hindi .

 

इंटरनेट  को तकनिकी रूप से इस प्रकार परिभाषित किया जा सकता है  “इंटरनेट कंप्यूटर नेटवर्कों का एक नेटवर्क है। ” यानी आप इसे दुनिया के विभिन्न कंप्यूटर नेटवर्कों का समूह कह सकते हैं। लाखों कंप्यूटर इस नेटवर्क में  एक दूसरे से जुड़े होते हैं। वैसे तो कंप्यूटर को टेलीफोन लाइन द्वारा इंटरनेट  से जोड़ा जाता है लेकिन ऐसे और भी साधन हैं जिसके द्वारा कंप्यूटर को इंटरनेट से जोड़ा जा सकता है।

इंटरनेट दुनिया का सबसे बड़ा नेटवर्क है ,जिससे दुनिया भर के अनेक नेटवर्क जुड़े हुए हैं। यह क्लाइंट सर्वर आर्किटेक्चर पर आधारित है जिसमे मोबाइल या कंप्यूटर जिसके द्वारा इंटनेट में मौजूद जानकारियों का प्रयोग किया जाता है क्लाइंट कहा जाता है। तथा जहाँ इन जानकारियों को सुरक्षित रखी जाती है सर्वर कहलाती है।

इंटरनेट पर मौजूद जानकारियों को हम देखने के लिए वेब ब्राउज़र का इस्तेमाल करते हैं। यह एक ऐसा प्रोग्राम होता है जो इंटरनेट पर मौजूद सूचनाओं को सर्च करता है और वेब पेजों को प्रदर्शित करता है। इसे  क्लाइंट प्रोग्राम कहा जाता   है।

इंटरनेट किसी एक कंपनी या सरकार के अधीन नहीं होता है। इसमें बहुत से सर्वर जुड़े होते हैं जो अलग अलग प्राइवेट कंपनियों या संस्थाओं के होते हैं।

 

इंटरनेट का इतिहास – History of Internet in Hindi.

 

वर्ष 1969 में लॉस एंजेलेस की यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैलोफोर्निया तथा  यूनिवर्सिटी ऑफ़ यूटा अरपानेट की शुरुवात के रूप में जुड़े। इस परियोजना का मुख्य लक्ष्य विभिन्न विश्वविद्यालयों तथा अमेरिका रक्षा मंत्रालय के कम्प्यूटरों को आपस में कनेक्ट करना था। यह दुनिया का पहला पैकेट स्विचिंग नेटवर्क था। 80 के दसक के मध्य एक और संघीय एजेंसी राष्ट्रीय विज्ञानं फाउंडेशन ने एक नया उच्च क्षमता वाला नेटवर्क NSFnet  बनाया जो ARPANET से अधिक सक्षम था।

NSFnet में केवल यही कमी थी कि यह अपने नेटवर्क पर केवल शैक्षिक अनुसंधानों को ही अनुमति देता था। किसी भी प्रकार के निजी व्यापार को अनुमति नहीं थी। इसलिए निजी संगठनो,तथा लोनों ने खुद मिल कर अपने खुद के नेटवर्क का निर्माण शुरू कर दिया। जिसके बाद में ARPANET तथा NSFnet से जोड़कर इंटरनेट का निर्माण किया गया।

 

इंटरनेट के फायदेAdvantages of Internet in Hindi

 वैसे तो इंटरनेट के बहुत सारे फायदे हैं तो उन्ही फायदों में से कुछ निम्न इस प्रकार हैं।

1. मनोरंजन  Entertainment  इंटरनेट से आप अपने कंप्यूटर या मोबाइल फ़ोन के माध्यम से ऑनलाइन फ़िल्में ,वीडियोस,गाने इत्यादि देख सकते और डाउनलोड कर सकते हैं। यूट्यूब ,नेटफ्लिक्स ,अमेज़न प्राइम वीडियो जैसे बहुत सारे ऐसे सेवाएं हैं जहाँ आप ऑनलाइन मनोरान कर सकते हैं और सोशल मीडिया या सोशल नेटवर्क पर आप अपने दोस्तों रिश्तेदारों से ऑनलाइन बाते कर सकते हैं।

2.   शिक्षा Education  शिक्षा के क्षेत्र में भी इंटरनेट का एक अहम योगदान है। इंटरनेट की मदद से आजकल ऑनलाइन पढाई भी की जाती है।और कोई भी जानकारी आसानी से इंटरनेट पर मिल जाती है। जिससे विद्यार्थियों को काफी मदद मिलती है।

3. ऑनलाइन शॉपिंग  Online Shopping  इंटरनेट के कारण ही अब लोग घर बैठे ऑनलाइन खरीदारी कर पा रहे हैं।बार बार दुकान जाने की जरुरत नहीं पड़ती है।

4. सूचनाओं का आदान प्रदान Share information   घर बैठे या कहीं से भी एक स्थान से दूसरे स्थान दुनिया में कहीं भी सूचनाओं या जानकारीओं का आदान प्रदान  कुछ ही सेकंड में इंटरनेट के माध्यम से किया जाता है। आज इंटरनेट पर वॉइस कॉल ,वीडियो कॉल ,ईमेल के साथ साथ अन्य प्रकार के कोई भी फाइल भेज और प्राप्त कर सकते हैं।

5. ऑनलाइन बिल  Online Bill  आप घर बैठे इंटरनेट की मदद से अपने डेबिट कार्ड , क्रेडिट कार्ड या नेटबैंकिंग द्वारा ऑनलाइन बिजली बिल,टेलीफोन बिल, डीटीएच बिल आदि  का भुगतान कर सकते हैं।

इंटरनेट के तो वैसे बहुत से फायदे हैं लेकिन कुछ हानियां भी है।

इंटरनेट से हानियां – Disadvantages of Internet in Hindi

 

1. समय की बरबादी Waste of time  जो लोग इंटरनेट का सही इस्तेमाल करते हैं जैसे कोई ऑफिस का काम , एजुकेशन के लिए या कोई अपने काम के लिए करते हैं तो  उनके लिए इंटरनेट काफी लाभदायक है। अन्यथा इंटरनेट का बेवजह अधिक उपयोग समय की बरबादी के अलावे कुछ नहीं है।

2. इंटरनेट फ्री नहीं होता है Internet is not free  इंटरनेट फ्री नहीं होता है। इंटरनेट सेवा प्रदान करने वाली सभी कंपनी इंटरनेट कनेक्शन के लिए काफी चार्ज लेते हैं।  इसलिए आपको अगर इंटरनेट की जरुरत ज्यादा नहीं पड़ती तो आपको प्रे-पेड इंटरनेट सेवा ही लेनी चाहिए।

3.पहचान की चोरी ,वायरस ,हैकिंग ,धोखाधड़ी  आप जब भी किसी वेबसाइट पर जाते हैं और रजिस्टर कर अपना अकाउंट बनाते हैं तो आपकी जानकारी वहाँ सेव हो जाती है उन्ही निजी जानकारिओं को कुछ कंपनी अपने फायदे के लिए बेचती है या उसका दुरपयोग करती है।इंटरनेट की मदद से हैकर्स आपके फ़ोन  कंप्यूटर को हैक कर आपके निजी जानकारी को आसानी से चुरा सकते हैं। साथ ही इंटरनेट से हमारे कंप्यूटर पर वायरस आने का खतरा भी रहता है इसलिए इनसे बचने के लिए हमेशा एंटीवायरस का इस्तेमाल करना चाहिए।

4. स्वास्थ्य  प्रभाव  और इंटरनेट की लत  किसी भी चीज़ की लत अगर पड़ जाने से उसका प्ररिणाम बहुत बुरा होता है इससे हमारे स्वास्थ्य पर भी काफी असर पड़ता है। इंटरनेट का अत्यधिक प्रयोग भी एक लत है बहुत से ऐसे लोग होते हैं जो दिन रात इंटरनेट पर घुसे रहते हैं और अपने हेल्थ ,खाने पीने पर ध्यान नहीं देते इस वजह से मानसिक तनाव ,आँखों में दर्द की शिकायत ,मोटापा ,शरीर का अकड़ना जैसे प्रभाओ से गुजरना पड़ सकता है जो की स्वास्थ्य के लिए सही नहीं है।

 

Leave a Comment